19.9.17

मोहब्बत का रुतबा - हिंदी शायरी

मोहब्बत का रुतबा (Mohabbat Ka Rutba) - हिंदी शायरी

मोहब्बत का रुतबा - हिंदी शायरी: दोस्तों अगर बात करे रुतबे की तो हर किसी वस्तु या ब्यक्ति का एक रुतबा जरूर होता है। तो आज यहाँ पर पेश की जा रही है कुछ मोहब्बत का रुतबा - हिंदी शायरी ख़ास www.madeforyouth.com साइट के पढ़ने वालो के लिए।

मोहब्बत का रुतबा तुम क्या जानों हमदम,
अगर तुम्हारे आवाज में दर्द है तो मेरी आँखों में भी इश्क है।


Hindi Shayari with Image - Mohabbat Ka Rutba

सुनो... आँखों के पास नही तो न सही,
कसम से दिल के बहुत पास हो तुम।

शायरी कहा आती थी मुझे, बस तेरे दिए जख्म गिनते गया,
लफ्ज बोलते गया और लोग, वाह वाह बोलते गए।

फर्क तो बस अपनी अपनी सोच का है,
वर्ना दोस्ती भी मोहब्बत से काम नहीं होती।


क्या खूब कही .. .... 

Follow by Email