Sunday

सावन की ये साजिश तो देखो - हिंदी शायरी

सावन की ये साजिश तो देखो - हिंदी शायरी : प्यारे दोस्तों, हाजिर हु एक प्यारी सी शायरी लेकर जो इस मौसम की हिसाब से ठीक है | दोस्तों सावन का मस्त मौसम चल रहा है और ऐसे में किसी की याद न आये ये हो नहीं सकता | तो अगर आप भी अभी किसी को याद कर रहे है तो पेश-ए-खिदमत है "सावन की ये साजिश तो देखो" शायरी | मस्त मौसम है एन्जॉय जरूर करिये | [यह भी पढ़े : आई लव यू के क्या मायने है]
सावन की ये साजिश तो देखो,
रिमझिम आई ये बारिश तो देखो,
मेरा ये तन भीगा है,
मेरे मन की ख्वाहिश तो देखो,
बूंदो की प्यास नहीं मेरे को,
अजब सी यह आजमाइश तो देखो |
गरज कर आये ये बदल तो देखो,
भीगा हुआ मेरा आँचल तो देखो,
सांसो की गर्मी अब ये बड़ी है,
तुम्हारे प्यार में हुई पागल तो देखो | 
पागलपन अब ये बड़ा है,
जवानी का नशा जो अब सर पर चढ़ा है,
अब उस नशे को पीकर तो देखो,
खुद को मुझ में जीकर कर तो देखो,
सावन की ये साजिश तो देखो |